6.5 करोड़ से अधिक कर्मचारियों की होली होगी रंगीन, 12 मार्च को होगी EPFO बैठक

नई दिल्ली : केंद्रीय कर्मचारियों के साथ-साथ अब सरकार कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के सब्सक्राइबर को भी होली का बड़ा तोहफा मिलने वाला है. सरकार पीएफ पर जल्द ही ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर सकती है. बता दे कि ईपीएफओ के सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टी की बैठक 12 मार्च 2022 को गुवाहाटी में होगी, इस बैठक में ब्याज दरों को लेकर चर्चा हो सकती है. सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टी की बैठक में मौजूदा वित्त वर्ष के लिए ब्याज तय किया जाएगा.

मुश्किल भरा रहा है चालू वित्तीय वर्ष

इसके बाद वह अपनी- अपनी सिफारिशें वित्त मंत्रालय को सौंपेगा, उसके बाद ही ब्याज दरों पर आखिरी फैसला लिया जाएगा. वहीं सूत्रों की माने तो सीबीटी के कुछ सदस्य भी ब्याज दर बढ़ाने के पक्ष में ही है. मौजूदा वित्त वर्ष ईपीएफओ के लिए मुश्किल भरा रहा है. इसके बावजूद 8.5 फीसदी ब्याज देने के लिए ईपीएफओ अपने इक्विटी निवेश में हिस्सा बेच सकता है. विकल्प कम होने की वजह से बांड निवेश उम्मीद से कम रहा जिस वजह से पूंजी का निवेश नहीं हो पाया. ईपीएफओ इक्विटी के साथ डेट में निवेश करता है.

ईपीएफओ ने वित्त वर्ष 2020- 21 में अपने सब्सक्राइबर को 8.5% का ब्याज दिया था. सबसे ज्यादा ब्याज दर 2015-16 में थी, जब सब्सक्राइबर को 8.80 फीसदी का ब्याज दिया गया. अब सैलरीड क्लास की निगाहे 12 मार्च को होने वाली मीटिंग पर है. केंद्रीय श्रम मंत्री के अनुसार इस अहम बैठक में ब्याज दरों के लेकर कई प्रस्तावों पर चर्चा हो सकती है. श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव ने ईपीएफओ के ब्याज दर बढ़ाने या उसे स्थिर रखने पर कहा कि यह फैसला अगले वित्त वर्ष की आमदनी के अनुमान पर ही लिया जाएगा.